क्षितिज क्लास 10 हिंदी

अट नहीं रही है

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

अट नहीं रही है
आभा फागुन की तन
सट नहीं रही है।

इस कविता में कवि ने वसंत ऋतु की सुंदरता का बखान किया है। वसंत ऋतु का आगमन हिंदी के फागुन महीने में होता है। ऐसे में फागुन की आभा इतनी अधिक है कि वह कहीं समा नहीं पा रही है।

कहीं साँस लेते हो,
घर-घर भर देते हो,
उड़ने को नभ में तुम
पर-पर कर देते हो,
आँख हटाता हूँ तो
हट नहीं रही है।

वसंत जब साँस लेता है तो उसकी खुशबू से हर घर भर उठता है। कभी ऐसा लगता है कि बसंत आसमान में उड़ने के लिए अपने पंख फड़फड़ाता है। कवि उस सौंदर्य से अपनी आँखें हटाना चाहता है लेकिन उसकी आँखें हट नहीं रही हैं।

पत्तों से लदी डाल
कहीं हरी, कहीं लाल,
कहीं पड़ी है उर में
मंद गंध पुष्प माल,
पाट-पाट शोभा श्री
पट नहीं रही है।

पेड़ों पर नए पत्ते निकल आए हैं, जो कई रंगों के हैं। कहीं-कहीं पर कुछ पेड़ों के गले में लगता है कि भीनी‌-भीनी खुशबू देने वाले फूलों की माला लटकी हुई है। हर तरफ सुंदरता बिखरी पड़ी है और वह इतनी अधिक है कि धरा पर समा नहीं रही है।

अभ्यास

प्रश्न 1: छायावाद की एक खास विशेषता है अंतर्मन के भावों का बाहर की दुनिया से सामंजस्य बिठाना। कविता की किन पंक्तियों को पढ़कर यह धारणा पुष्ट होती है? लिखिए।

उत्तर: कविता की कई पंक्तियों को पढ़कर यह धारणा पुष्ट होती है। उदाहरण के लिए; जब कवि कहता है, ‘आभा फागुन की तन सट नहीं रही है।‘ एक अन्य उदाहरण उस पंक्ति से लिया जा सकता जिसमें कवि कहता है कि उसकी आँखें हट नहीं रही है चाहे वह उन्हें लाख हटाना चाहता है।

प्रश्न 2: कवि की आँख फागुन की सुंदरता से क्यों हट नहीं रही है?

उत्तर: फागुन की सुंदरता इतनी गजब की है कि कवि के न चाहते हुए भी उसकी आँखें उसपर से हट नहीं रही है। ऐसा अक्सर होता है जब हम किसी अत्यंत खूबसूरत चीज या व्यक्ति को देखते हैं तो हमारी आँखें उसपर जैसे अनंत काल के लिए टिक जाती हैं।

प्रश्न 3: फागुन में ऐसा क्या होता है जो बाकी ऋतुओं से भिन्न होता है?

उत्तर: हर ऋतु की अपनी विशेषता होती है। लेकिन फागुन शायद अन्य सब ऋतुओं से अलग है। फागुन में दृश्यपटल पर तरह तरह के रंग बिखरे हुए मिलते हैं। यह वह ऋतु होती है जब पेड़ों में नए पत्ते निकलते हैं और नाना प्रकार के फूल खिलते हैं। हवा में फूलों की मादक सुगंध भरी हुई होती है।

प्रश्न 4: इन कविताओं के आधार पर निराला के काव्य शिल्प की विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर: निराला प्रकृति के बारे में लिखने वाले कवि थे। उनकी कविताओं में खड़ी हिंदी का प्रयोग हुआ है। वे विभिन्न प्रकार के उपमाओं और अलंकारों के संयोजन से प्रकृति की सुंदरता का बयान करते हैं।


सूरदास

ऊधौ, तुम हौ अति बड़भागी।

तुलसीदास

नाथ संभुधनु भंजनिहारा। होइहि केउ एक दास तुम्हारा॥

देव

पाँयनि नूपुर मंजु बजै, कटि किंकिनि कै धुनि की मधुराई।

जयशंकर प्रसाद

मधुप गुन-गुना कर कह जाता कौन कहानी यह अपनी

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

बादल, गरजो, घेर घेर घोर गगन, धाराधर ओ

नागार्जुन

यह दंतुरित मुसकान, मृतक में भी डाल देगी जान

गिरिजाकुमार माथुर

छाया मत छूना मन, होगा दुख दूना।

ऋतुराज

कितना प्रामाणिक था उसका दुख लड़की को दान में देते वक्त

मंगलेश डबराल

मुख्य गायक के चट्टान जैसे भारी स्वर का साथ देती

नेताजी का चश्मा

कैप्टन नेताजी की इज्जत करता था। उसे शायद नेताजी के योगदान के बारे में पता था।

बालगोबिन भगत

बालगोबिन भगत कबीर के पक्के भक्त थे।

लखनवी अंदाज

नवाब साहब को झूठी शान दिखाने की आदत रही होगी।

मानवीय करुणा की दिव्य चमक

फादर बुल्के के पोर पोर से ममता झलकती थी।

एक कहानी यह भी

लेखिका के पिता का मानना था कि रसोई में उलझ जाने से किसी महिला की प्रतिभा और उसके सपनों का दहन हो जाता है।

स्त्री शिक्षा के विरोधी कुतर्कों का खंडन

पहले स्त्रियों की शिक्षा के लिए कोई औपचारिक व्यवस्था नहीं थी लेकिन अब ऐसी बात नहीं है।

नौबतखाने में इबादत

बिस्मिल्ला खाँ ने अस्सी बरस तक लगातार शहनाई बजाने का रियाज किया था।

संस्कृति

जो व्यक्ति किसी नई चीज की खोज करता है वह संस्कृत व्यक्ति कहलाता है।